Bluetooth kya hai or yah kaise kam karta hai

Bluetooth kya hai और यह कैसे काम करता है?

Bluetooth kya hai और यह कैसे काम करता है?

वर्तमान में, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग एक दूसरे को जोड़ने के लिए किया जाता है, जिनमें से एक ब्लूटूथ माध्यम नाम है इस लिए आज हम जानेंगे की Bluetooth kya hai और यह कैसे काम करता है?

आज के समय में सबसे ज्यादा इस्तेमाल बिना Cable के Electronic Devices के प्रयोग पर जोर दिया जा रहा है आज के समय में सारी Devices wireless होते जा रहे हैं जैसे बिना Wire के Mouse से आप Computer use कर सकते हैं या फिर बिना Wire के heandfree लगाकर Songs सुन सकते हैं।

Bluetooth kya hai

Bluetooth एक बिना wire संचार के लिए एक Protocol है Audio Device, Mobile Phones Tablets, Home Theater, MP3 Players, Laptop, Desktop और Video Game जैसे Tools एक दूसरे को जोड़कर जानकारी का आदान-प्रदान कर सकते हैं Bluetooth मूल रूप से Cables की संख्या को कम करने के लिए विकसित किया गया था Bluetooth का उपयोग केवल कुछ मीटर के लिए और कम दूरी के लिए किया जा सकता है।

ब्लूटूथ Technology का नाम Denmark के राजा Herald Bluetooth से लिया गया था जो कि 10 वीं सदी में शासन किया करते थे राजा Herald Bluetooth ने उस समय युद्ध में लगे हुए राजाओं को युद्ध के बजाय आपस में समझौता करने की कूटनीतिक राजनीति की, जिससे कि बहुत से राजा आपस में संपर्क कर युद्ध से बच सके उनकी इसकी काबिलियत और प्रक्रिया से इस तकनीकी का नाम Bluetooth रखा गया जो कि एक समय में कई Electronic Gadgets को आपस में जोड़कर सूचना और Data को आदान प्रदान करता है।

Mobile se Online Earning

YouTube vs Blogging

Upwork se pese kamane ka trike

Bluetooth का आविष्कार कब और किसने किया था?

ब्लूटूथ का विकास 1994 में Jaap Haartsen द्वारा किया गया था, जिसने उस समय एरिक्सन (नीद्रलैंड में एम्मेन स्थान) पर एक Radio प्रणाली पर काम किया था इन विनिदेशों को Bluetooth Special Interest Group (SIG) द्वारा औपचारिक बनाया गया और Special Interest Group 20 May 1999 को गठित किया गया था इसे Ericsson, Ericsson Sony, IBM, Intel, Toshiba And Nokia,  द्वारा किया गया Bluetooth Technology को  IEEE 802-151. के नाम से  भी जाना जाता है।

Bluetooth कैसे काम करता है?

ब्लूटूथ का उपयोग आज के समय में विभिन्न तरह के Electronic Gadgets के उपयोग में किया जाता है जैसे:- Mouse और Keyboard को Computer से Connect करने में, Computer से Printer को Connect करके, 2 Computer या Laptop को Wireless Connectivity द्वारा कनेक्शन के लिए, Bluetooth के द्वारा Speaker को Computer या Mobile से Connect करने में, 2 Mobile को Bluetooth के द्वारा Connect करके Data Exchange करने के लिए Bluetooth का इस्तेमाल किया जाता है।

ब्लूटूथ का इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले Bluetooth Devices में उपलब्ध Bluetooth को on किया जाता है इसके बाद यह Device उपलब्ध नजदीकी Device को Search करके उसके साथ Connect हो जाता है तब इनके बीच एक Network का निर्माण होता है Network स्थापित होने के बाद Device संचार करने के लिए बिल्कुल तैयार हो जाता है अब यह Data का आदान-प्रदान कर सकते हैं यदि कोई Device Network के दायरे से बाहर जाता है तो इनका संबंध Network से टूट जाता है सभी Electronics Devices को आपस में Connect होने के लिए Network की जरुरत पड़ती है।

Bluetooth Network Technology के प्रकार

ब्लूटूथ Network उस Network कहा जाता है जहां कई Bluetooth उपयोगकर्ता एक-दूसरे से जुड़े होते हैं और संवाद करते हैं यह Network मुख्य रूप से दो है जिसमें पहले Master और दूसरे Slave होते हैं।

यदि आप जान गए की Bluetooth kya hai तो अब जानते है  ब्लूटूथ में विशेष रूप से दो प्रकार की Network Technology अधिक महत्वपूर्ण दिया गया है,
1) Piconet
2) Scatternet

Piconet

Piconet Network तब बनता है जब एक Master Device और एक Slave Device या फिर एक Master Device और बहुत सारे Slave Device मौजूद होते हैं Piconet में ज्यादा से ज्यादा 7 Active Slave ही रह सकते हैं इसलिए इसमें अधिकतम 8 Devices यानि की एक Master Device और 7 Slave Device को जोड़ा जा सकता है जो Device Connection शुरू करता है और अन्य Device उस Network में जुड़ते है और उस Device को Master Device कहा जाता है।

चूंकि Piconet में केवल एक मास्टर डिवाइस है जो किसी अन्य डिवाइस पर डेटा भेज सकता है। केवल एक दास डिवाइस डेटा एक से अधिक संचार प्राप्त कर सकता है जब मास्टर डिवाइस डेटा एक से अधिक मलम डिवाइस स्वीकार्य है।

Scatternet

Multiple Piconets के Combination को Scatternet कहा जाता है एक Piconet में जो Slave Device है वही Device दूसरे Piconet में Master Device की तरह काम कर सकता है इसी वजह से एक Device 2 Piconet का हिस्सा होती है लेकिन एक Device एक से ज्यादा Piconets में Master Device नहीं हो सकती जैसा कि आप जानते हैं कि Scatternet को एक से ज्यादा Piconets जोड़कर तैयार किया जाता है।

अगर कोई Device में किसी Piconet में Slave Device है और दूसरे Piconets में Master Device है तो वह Device जिस Piconet में Slave है उस Piconet से प्राप्त Data को दूसरे Piconet में जिसमे वह Master Device है उसमे अपने Slave Device को वही Data भेज सकता है।

Domain se paisa kamaye

Typing karke paise kaise kamaye

PTC se paise kaise kamaye

Bluetooth कितने प्रकार का होता है?

ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी के कुछ खास प्रकार है:-

Mobile Bluetooth:-

आप जो Mobile इस्तेमाल कर रहे हैं यदि उस Mobile में Bluetooth है तो आप किसी Other Mobile Data (Documents, Image, Videos इत्यादि) का आदान प्रदान कर सकते हैं।

Bluetooth Headsets:-

Headset आपको किसी भी हाथ और Cable का उपयोग किए बिना अपने Mobile Phone पर Call करने या प्राप्त करने में सक्षम बनाता है।

Stereo Headset Bluetooth:-

बिना किसी Cable का उपयोग किए, इस प्रकार का Wireless Headset संचार का उपयोग करके अपने Mobile Phone से संगीत सुनने के लिए Music Players से जुड़ा होता है Stereo headset और Mobile Phone के बीच की दूरी बहुत कम होती है।

Bluetooth Keyboard-Mouse:-

ब्लूटूथ Keyboard-Mouse, Computer या Laptop Device से बिना Cable से जुड़े काम करता है यह Bluetooth Device Mobile Phone Device के लिए भी काम करता है।

Bluetooth Enables Webcam:-

Bluetooth Enables Webcam का काम पारंपरिक Webcam की तरह ही है लेकिन वे wireless तरीके से जुड़े हुए होते हैं Wireless Webcam के विपरीत Device में गतिशीलता जोड़ती हैं जो Computer पर या उसके पास Dock की जाती हैं।

In – Car Bluetooth Headset:-

Car में हम Music player system का निरीक्षण करते हैं, और Mobile Bluetooth System से जुड़ा होता है Car Speaker System की मदद से हम Call प्राप्त और कर सकते हैं Mobile Device का उपयोग किए बिना।

Bluetooth-Equipped Printer:-

यह Printer बिना Cable Bluetooth से चलता है जो किसी भी Bluetooth Device से Connect हो कर Documentation और Pictures को Print कर सकते हैं।

Bluetooth GPS device:-

ब्लूटूथ तकनीक के साथ GPS Device पारंपरिक GPS में सुधार है इस उपकरण को आवाज के माध्यम से संप्रेषित किया जाता है यदि हम Screen पर GPS में पते को बोलते या उसका लिखते हैं, तो यह पते पर दिशा-निर्देश प्राप्त कर सकता है और आवाज की दिशा भी होगी।

Bluetooth के अलग अलग Versions

  1. Bluetooth 1.0 and 1.0B (1999)

    Mandatory Bluetooth hardware device and address with a connection range of 10m or 33ft.

  2. Bluetooth v1.1 (1999)

    Ratified as IEEE Standard 802.15.1–2002
    connection range of 10m or 33ft

  3. Bluetooth v1.2 (1999)

    Faster connection
    Speed or data rate: 721 kbps
    Backward compatibility: v1.1
    connection range of 10m or 33ft

  4. Bluetooth v2.0 +EDR (2005)

    Enhanced data rate
    Speed: 2.1 Mbps
    Backward compatibility: Bluetooth v1.2
    Increased connection range of 30m or 100ft

  5. Bluetooth v2.1 +EDR (2007)

    Secure simple pairing
    Speed: 2.1 Mbit/s
    Backward compatibility: Bluetooth v1.2
    Increased connection range of 30m or 100ft

  6. Bluetooth version v3.0 +HS (2009)

    High-speed data transfer
    Speed: 24 Mbps
    Backward compatibility: Bluetooth v2.1
    Increased connection range of 30m or 100ft

  7. Bluetooth v4.0 (2010)

    Speed:24 Mbps
    Backward compatibility: Bluetooth v3.0
    Increased connection range to 60m or 200ft

  8. Bluetooth v4.1 (2013)

    Speed:24 Mbps
    Less interference between Bluetooth and 4G/LTE signals
    Improved pairing and re-pairing of devices
    Increased connection range to 60m or 200ft

  9. Bluetooth v4.2 (2014)

    Speed:24 Mbps
    Increased connection range to 60m or 200ft
    Less interference between Bluetooth and 4G/LTE signals
    Improved pairing and re-pairing of devices
    Improved data transmission with Adaptive Frequency Hopping (AFH)

  10. Bluetooth 5 (2016)

    Bluetooth 5 provides an increased bandwidth capacity of 2 Mbit/s
    Less power consumption
    Increased message capacity
    Backwards compatibility with Bluetooth 4 versions
    connection range to up to 240m.

  11. Bluetooth 5.1 (2019)

    Bluetooth 5 provides an increased bandwidth capacity of 2 Mbit/s
    Less power consumption
    Increased message capacity
    Backwards compatibility with Bluetooth 4 versions
    connection range to up to 240m.

  12. Bluetooth 5.2 (2019)

    LE Power Control
    LE Isochronous Channels
    connection range to up to 240m.

Successful YouTuber Kaise bane

Top 10 Most Popular YouTuber in India

What is Android in hindi

Bluetooth के फायदे

  1. इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि बिना Wire के आपस में Devices को जोड़ सकता है
  2. एक Device से दूसरे Device में Data Transfer किया जा सकता है
  3. इस तकनीकी का इस्तेमाल बहुत से Products जैसे कि Mobile Headset, Car System, Printer, Webcam, GPS System, Keyboard और Mouse में इस्तेमाल होता है
  4. सभी Peripheral Devices जैसे कि Mouse, Keyboard, Speakers और Printer इत्यादि को बड़ी ही आसानी से बिना Wire के Computer के साथ Connect कर सकते है
  5. इस तकनीकी की क्षमता बहुत ज्यादा होती है इसीलिए आप दीवार के आसार भी Data Transfer कर सकते हैं
  6. यह अन्य Wireless तकनीकी के मुकाबले सस्ती होता है
  7. इसे उर्जा की बहुत कम जरूरत पड़ती है इसीलिए Bluetooth आपकी Device की Battery की कम खपत करती है
  8. Bluetooth Data Transfer में Security प्रदान करता है केवल छोटे दायरे में संचार होता है इसीलिए दूर स्थित Device आपके Network से छेड़छाड़ नहीं कर सकते और आप बिना किसी रूकावट अपना Data Transfer कर सकते हैं

Conclusion

मुझे उम्मीद है आपको मेरी इस Post Bluetooth kya hai और यह कैसे काम करता है? से की पूरी जानकारी प्राप्त हुई होगी और मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की मेरे Post के जरिये आपको दिए गए विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त हो सके और यदि आपको मेरा यह Post अच्छा लगा हो तो Please मेरे इस Post को ज्यादा से ज्यादा Share करे ताकि और भी लोग मेरा यह Post पड़ कर Bluetooth kya hai और यह कैसे काम करता है? की पूरी जानकारी प्राप्त कर सके।

Hello दोस्तों मेरा नाम Lokesh है और मैं इस ब्लॉग का Writer और Founder हूँ Education की बात करूँ तो मैंने Delhi University से Graduations की हुई है और मुझे नयी नयी Technology के बारे में पढ़ना और दूसरों को सिखाना बहुत अच्छा लगता है इसलिए अपनी इस Website के माध्यम से नयी नयी Technology से Related पूरी जानकारी देता हूँ बस मेरी आपसे एक ही विनती है की आप लोग इसी तरह मुझे सहयोग देते रहे और मैं आपके लिए नईं-नईं जानकारी लाता रहूँगा। आपकी अपनी Website www.hindimelokesh.in

Exit mobile version